रावण !

आज फिर जल गया रावण, जलकर ख़ाक हो गया। सुना अहंकारी था वह बड़ा, लो वह भी राख हो गया। आज फिर असत्य पर, सत्य की विजय हुई, अधर्म का नाश कर, धर्म की जय-जय हुई। मना लो खुशियाँ कि जीत गए हम, चला लो पटाखें, अरे मूर्ख कुछ समझो ज़रा, देखो खोलकर आँखें। जिसे... Continue Reading →

Advertisements
Featured post

गेंद !

बीत गए हैं दिन कई, आँगन में कोई गेंद गिरी नहीं आ कर, ना वो चेहरे दिखाई दे रहे, जो खिल जाते थे उसको पा कर। किसी ने तोड़े ही नहीं, टँगे हैं आज भी वहीं, वो आम पके हुए, ना वो थाप सुनाई दी, जो देती थी, जब दौड़ते थे कुछ पैर थके हुए।... Continue Reading →

शिक्षक

जो गिरते को चलना सिखा दे, वह शिक्षक होता है, भूले-भटके को जो दिशा दिखा दे, वह शिक्षक होता है। शिक्षक कठिन राह को, आसान बना सकता है, शिक्षक ही एक इन्सान को, अच्छा इन्सान बना सकता है। अज्ञान के घोर अंधियारे में, ज्ञान का प्रकाश होता है शिक्षक, उन्नति का सूर्य उदय हो जिसमें,... Continue Reading →

मैं सच कहता हूँ !

इक दिन ऐसा आएगा, जब कोई न होगा साथ तुम्हारे, जब परछाई भी साथ छोड़कर अपनी राह बदल जायेगी, "जब एक अकेले रोने वाला कोना भी ना मिल पाएगा", जब आने वाले कल का भय मन में घर कर जायेगा, तब उसी घड़ी, उस समय, उसी क्षण पाओगे तुम पास मुझे, मैं सच कहता हूँ... Continue Reading →

ख़ामोशी !

जब थक जाएँ पैर तुम्हारे, संघर्ष पथ पर चलते चलते, जब छा जाए हर ओर अँधेरा, डूब जाए सूरज ढलते ढलते। जब सही राह खो जाए, ना मिले सागर का कोई किनारा, जब तूफ़ान घेर लें सभी तरफ, ना हो पास में कोई सहारा। तब इन विपदाओं से हो भयभीत, ना करो मन को कमज़ोर सुनो,... Continue Reading →

इन उलझनों के पार !

वो बचपन की धुंधलाई यादें, पुराने सन्दूक में जो दबी पड़ी थी, वो यादें थी जिसमें खुशियाँ, वहीं पास में छिपी खड़ी थी। उन यादों की उस गठरी से, एक भीनी सी खुशबू आती थी, यह खुशबू जानी-पहचानी थी, कुछ लम्हें याद दिलाती थी। वो लम्हें बचपन की बारिश के, जब खुशियाँ बरसा करती थी,... Continue Reading →

शब्दकोष रिक्त है !

  कहना है बहुत कुछ, पर शब्दों का अकाल है, मन है विचलित, कुछ सोचता, ये कैसा जंजाल है। भावनाएँ बह रही हैं, अविरल रफ़्तार से, प्रतीत होता है कि जैसे आया भावों का भूचाल है। मौन सा हुआ है मुख, पर अशांत चित्त है, सोचता हूँ लिख लूँ कुछ, पर शब्दकोष रिक्त है। लिखूँ... Continue Reading →

Blog at WordPress.com.

Up ↑